Sariya New price Nov22: कोयले की कीमत में तीन हजार रुपये प्रति टन की गिरावट और मांग में आई कमी ने सरिया की कीमत में जबरदस्त गिरावट लाई है। इस वर्ष मार्च में 80 हजार 400 रुपये प्रति टन के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया सरिया शनिवार को दो वर्ष पहले के स्तर पर यानी 50 हजार रुपये प्रति टन पर आ गया।


दिसंबर 2020 में भी सरिया 50 हजार रुपये प्रति टन पर था, जिसके बाद से लगातार तेजी बनी हुई थी।

घर बनाने की तैयारी कर रहे लोगों के लिए यह राहत भरी खबर है। लोहा कारोबारियों का कहना है कि 16 हजार रुपये प्रति टन मिलने वाला कोयला उद्योगों को इन दिनों 13 हजार रुपये प्रति टन में उपलब्ध हो रहा है। आने वाले कुछ दिनों में कोयले की होने वाली ई-नीलामी के चलते उद्योगों को घरेलू कोयला भी पर्याप्त मात्रा में मिलने लगेगा। इससे सरिया की कीमत और घट सकती है।

 

फैक्ट्रियों में 45 हजार रुपये प्रति टन

छत्तीसगढ़ स्पंज आयरन एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल नचरानी ने बताया कि फैक्ट्रियों में सरिया की कीमत 45 हजार रुपये प्रति टन हो गई है। जीएसटी मिलाकर यह 50 हजार रुपये प्रति टन पर पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि सरिया की कीमत में अब इससे ज्यादा गिरावट नहीं आएगी। फैक्ट्रियों में दाम गिरने के बाद कुछ दिनों में रिटेल में भी सरिया की कीमतों में गिरावट का सिलसिला शुरू हो जाएगा।

 

मकान बनाने व खरीदने का सबसे अच्छा मौका

रियल इस्टेट से जुड़े श्री स्वास्तिक ग्रुप के डायरेक्टर सुनील साहू ने बताया कि सरिया के दाम गिरने से मकानों की लागत में पांच से सात प्रतिशत तक की गिरावट आएगी। इसका लाभ उपभोक्ताओं को मिलेगा। घर खरीदने व बनाने के लिए इसे अच्छा मौका कहा जा सकता है।

बिहार से हूँ। बिहार होने पर गर्व हैं। फर्जी ख़बरों की क्लास लगाता हूँ। प्रवासियों को दोस्त हूँ। भारत मेरा सबकुछ हैं। Instagram पर @nyabihar तथा lov@gulfhindi.com पर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a comment