इस वक़्त भारत में फैले इस्लामोफोबिया को लेकर अरब देशों में काफ़ी ग़ुस्सा है और आज के बयान में भारतीय राजदूत जोकि इस संयुक्त अरब अमीरात के दूतावास में नियुक्त हैं उन्होंने भी चेतावनी दिया की कोई भी प्रवासी देश में या विदेश में किसी भी प्रकार का ग़लत संदेश सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म या किसी भी अन्य प्लैटफ़ॉर्म के ज़रिया न दिए और ना ही इस प्रकार की मंशा रखें. भारतीय राजदूत ने इसे चेतावनी पूर्वक कहा. वहीं संयुक्त अरब अमीरात के एक राजकुमारी ने भी ऐसे लोगों की सूची और उन पर कार्रवाई करने की माँग की जो अमीरात में रखकर इस्लामोफोबिया फैलाने का काम कर रहे हैं.

आपको बताते चलें गल्फ न्यूज़ ने भी इस बाबत एक ख़बर छापा है जिसमें यह कहा है कि भारत में इस वक़्त की स्थिति ऐसी है की लोग कोरोना के बदले मुस्लिम समाज को लगातार निशाना बना रहे हैं और पूरे भारत की यह मौजूदा वास्तु स्थिति है.
 
.सऊदी अरब के भी मुस्लिम संगठन ने कहा कि भारत में बढ़ रहे हैं इस्लाम धर्म के ख़िलाफ़ घृणात्मक माहौल को भारत सरकार को अविलंब देखना चाहिए अन्यथा इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन के ज़रिये उस पर सवाल उठाने से पीछे नहीं हटेगा.
 
भारत से भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता और अटल बिहारी बाजपेयी कैबिनेट के सबसे युवा मंत्री रह चुके सैयद शाहनवाज़ हुसैन ने आज अपने ट्विटर के ज़रिए यह काफ़ी कड़ा संदेश दिया जिसमें उन्होंने लगातार पूरे मुस्लिम समाज के ऊपर लग रहे आरोपों को खंडित किया और काफ़ी मज़बूती से कहा कि ऐसे लोग ख़ुद बख़ुद सामने आया है और भारत सरकार को सहयोग करें, कुछ लोगों के बाज़ार से पूरे मुस्लिम समाज बदनामी नहीं झेल सकता मुस्लिम समाज के अंदर भी बहुत ग़ुस्सा है. (Video संदेश नीचे उपलब्ध हैं)
 
The Tribune, Chandigarh, India - Main News
 
 
कोरोना वायरस का घटना घटा और मरकज वाली बात सामने आई तभी सरकार ने कहा था, कोई भी तबलीग जमात में गया हुआ व्यक्ति कहीं पर भी हो देसी हो या विदेशी वह तुरंत सरकार को रिपोर्ट करें सरकार उसका इलाज कराएगी और उसके जरिए किसी और को को रोना ना हो उसका इंतजाम करेगी.
 
लेकिन जिस तरह प्रयागराज में इलाहाबाद में विश्वविद्यालय के प्रोफेसर शाहिद के घर से विदेशी निकले हैं यह देश के खिलाफ बहुत बड़ा अन्याय हैं, बहुत बड़ा जुर्म है,  पढ़े लिखे लोग प्रोफेसर होकर इतनी बड़ी गलती कर रहे हैं “उनको छुपा रखा था”. इन सब को गिरफ्तार किया गया है और अब इन पर कार्यवाही होनी चाहिए.

कुछ लोगों को हक नहीं है कि वह पूरे मुस्लिम समाज को बदनाम करें, वह अपनी गलतियों से पूरे मुस्लिम समाज को बदनाम कर रहे हैं. ऐसे लोगों के खिलाफ मुस्लिम समाज के अंदर भी बहुत गुस्सा है. यह बहुत गलत है कि विदेशी जो कई अन्य देशों से आए हुए थे उन्हें छुपा कर रखा गया. 
 
बार-बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी जी से अपील की गई,  पुलिस के द्वारा अपील की गई “कि कोई भी तबलीग जमात से जुड़ा हुआ व्यक्ति को जो मरकज गया हो वह स्वेच्छा से अपनी जानकारी दें” ताकि उसका इलाज हो लेकिन असलियत में इसे छुपाया जा रहा है.
 
ऐसे संदर्भ में करुणा के विरुद्ध लड़ाई भारत कैसे लड़ सकेगा, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है और जो लोग भी कहीं भी अगर अभी भी जानकारी नहीं दिए हैं तो स्वेच्छा से जा करके जानकारी दें ताकि समाज  हित में बेहतर कार्य किया जा सके.
 
Video के ज़रिए पूरा संदेश सुने


 
 
Report: www.gulfhindi.com (Copyright and M Rights Reserved)GulfHindi.com

बिहार से हूँ। बिहार होने पर गर्व हैं। फर्जी ख़बरों की क्लास लगाता हूँ। प्रवासियों को दोस्त हूँ। भारत मेरा सबकुछ हैं। Instagram पर @nyabihar तथा lov@gulfhindi.com पर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a comment