ने वाले समय में हेल्थकेयर इंडस्ट्री में जबरदस्त ग्रोथ की संभावनाएं हैं। यही कारण है कि तमाम बड़ी कंपनियां इस सेक्टर में या तो नए स्टार्टअप शुरू कर रही हैं या फिर पुराने स्टार्टअप्स को एडॉप्ट कर रही हैं।

Tata ग्रुप ने भी हाल ही में 1mg को खरीदा है और अब देश के लाखों युवाओं से इससे जुड़ने की अपील की है। उन्होंने युवाओं से 1mg के साथ जुड़कर अपना खुद का बिजनेस स्टार्ट करने का आग्रह भी किया है।

 

1mg में क्या है खास

यह एक मेडिकल और हेल्थकेयर स्टार्टअप है जो दवाओं के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाता है तथा दवा डिलिवरी भी करता है। यहां पर आप विभिन्न बीमारियों के बारे में भी जान सकते हैं और सलाह भी ले सकते हैं। कंपनी का यह प्रोजेक्ट अभी लोगों को अपने साथ हेल्थ पार्टनर्स के रूप में जोड़ रहा है।

 

 

हेल्थ पार्टनर के रूप में करना होगा यह काम

कंपनी के साथ जुड़े हेल्थ पार्टनर्स का उद्देश्य देश के लोगों को हेल्थकेयर की जानकारी देना और उचित कीमत पर दवा उपलब्ध करवाना होगा। इसमें प्रत्येक डिलीवरी पर कंपनी कमीशन देगी जिससे वे हर महीने हजारों रुपया कमा सकेंगे। उन्हें किस तरह काम करना है, इसके लिए कंपनी और 1mg की ओर से मार्केटिंग और टेक्नोलॉजी की जानकारी दी जाएगी, उन्हें सिखाया जाएगा।

हेल्थ पार्टनर्स लोगों को बताएंगे कि 1mg की ओर से लोगों को क्या-क्या सर्विसेज दी जा रही हैं, उन्हें कंपनी के लिए ऑर्डर्स लेने होंगे और लोगों को 1mg के रेगुलर कस्टमर के रूप में जोड़ना होगा। इस तरह वे अपना खुद का भी एक विशाल नेटवर्क बना पाएंगे और अच्छी कमाई कर पाएंगे।

 

होगी कितनी कमाई?

1mg वेबसाइट पर इस संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई है। वहां पर दी गई जानकारी के अनुसार यदि आप महीने में 300 ऑर्डर लाते हैं जिनकी औसतन वैल्यू 500 रुपए हैं यानि आप पूरे महीने में कंपनी को कुल 1,50,000 रुपए का ऑर्डर लाते हैं तो कंपनी आपको 7650 रुपए कमीशन के रूप में देगी।

ऑर्डर ज्यादा होने या उनकी वैल्यूएशन ज्यादा होने पर आपका कमीशन भी ज्यादा हो जाएगा। यदि आप अपने पुराने ग्राहकों को अपने साथ लगातार जोड़े रख पाते हैं तो थोड़े समय बाद आप बिना ज्यादा मेहनत किए ज्यादा कमाई करने लगेंगे।

कैसे कर सकते हैं अप्लाई

1mg पर हेल्थ पार्टनर बनने के लिए आपको कंपनी की वेबसाइट पर जाकर वहां दिया गया फॉर्म भरना होगा। फॉर्म भरने के बाद आपके प्रोफाइल को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा, शॉर्टलिस्ट होते ही कंपनी आपको कॉल करेगी और आपसे आधार कार्ड, पैन कार्ड जैसे डॉक्यूमेंट्स मांगे जाएंगे। हेल्थ पार्टनर बनने के इच्छुक आवेदकों को 15000 रुपए की नॉन रिफंडेबल ऑन बोर्डिंग फीस भी देनी होगी। इस तरह आप अपने कॅरियर की शुरूआत कर सकते हैं।

बिहार से हूँ, भारतीय होने पर गर्व हैं. मध्य पूर्व Asia से रूबरू कराता हूँ और फ़र्ज़ी खबरों की क्लास लगाता हूँ. Download Gulfhindi MOBILE APP

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *