अरब देश का यात्रा अब और आसान होगा. यूएई ने यात्रियों को बेहतर और आसान सुविधाएं देने के लिए अबू धाबी हवाई अड्डे पर बायोमेट्रिक सेवा शुरू कर दी है.

 

पासपोर्ट और टिकट की अनिवार्यता ख़त्म

जिससे यात्रियों को अब किसी पासपोर्ट या टिकट की आवश्यकता नहीं होगी. यात्री का चेहरा ही उसका बोर्डिंग पास होगा. यानी यात्री एयरपोर्ट पर बोर्डिंग पास लेने के लिए अपने चेहरे का इस्तेमाल कर सकते हैं. फेस रिकग्निशन सेवाओं को चुनिंदा सेल्फ-सर्विस बैगेज टचपॉइंट्स, इमिग्रेशन ई-गेट्स और बोर्डिंग गेट्स पर लागू की जाएगी. फिर हवाई अड्डे पर सभी यात्री टचपॉइंट्स पर लागू किया जाएगा.

 

AI से मिलेगा Entry

इस एडवांस AI तकनीक को अबू धाबी स्थित टेक कंपनी NEXT50 द्वारा डिजाइन किया गया है. कंपनी यूएई के अबू धाबी हवाई अड्डे पर वैश्विक आर्टिफिशियल इन्टेलीजेंस और टेक्नोलॉजी सॉल्यूशन पार्टनर IDEMIA और SITA के साथ अपने अत्याधुनिक AI समाधान पेश करेगी. नई तकनीक यात्रा को बढ़ाएगी और मिडफील्ड टर्मिनल बिल्डिंग को सभी ग्राहक संपर्क बिंदुओं पर बायोमेट्रिक क्षमताओं वाले पहले अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में स्थापित करेगी.

 

NEXT50 के सीईओ इब्राहिम अल मन्नाई ने बताया कि बायोमेट्रिक्स परियोजना अमीरात के डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन विजन के हिस्से के रूप में आती है. उन्होंने कहा कि एक बार जब परियोजना पूरी तरह से साकार हो जाती है, तो ये हवाईअड्डा इस क्षेत्र का एकमात्र हवाई अड्डा होगा, जिसमें सभी ग्राहक संपर्क केन्द्रों पर बायोमेट्रिक समाधान लागू होंगे, जो अबू धाबी हवाईअड्डे को दुनिया में सबसे अधिक हवाई अड्डे का संचालक बनने के दृष्टिकोण में योगदान देगा.

 

 

यह प्रणाली यात्रियों को ‘कर्ब-टू-गेट’ से एक सुविधाजनक, संपर्क रहित और स्वच्छ अनुभव प्रदान करेगी. खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इससे यात्रियों के लिए प्रतीक्षा समय में कमी आएगी और लंबी लाइनों से छुटकारा मिल जाएगा. अबू धाबी हवाईअड्डे के एमडी और सीईओ इंजी जमाल सलेम अल धाहरी ने कहा कि अबू धाबी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उन्नत बायोमेट्रिक्स की पहले चरण की तैनाती हवाईअड्डे के अनुभवों के भविष्य को आकार देने की हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत करती है.

 

इस प्रोजेक्ट के अंतिम रूप से पूरा होने पर अबू धाबी बायोमेट्रिक यात्रा में हर टचपॉइंट्स को शामिल करने वाला दुनिया का पहला हवाई अड्डा होगा, जो यात्रियों को एक सहज, सुरक्षित अनुभव प्रदान करेगा. खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सिस्टम हवाईअड्डे में कई टचपॉइंट्स के साथ यात्री विवरणों को सत्यापित करने के लिए हाई-टेक बायोमेट्रिक कैमरों का उपयोग करेगा, जिसमें सेल्फ-सर्विस बैगेज ड्रॉप, पासपोर्ट कंट्रोल, बिजनेस क्लास लाउंज और बोर्डिंग गेट शामिल हैं.

बिहार से हूँ। बिहार होने पर गर्व हैं। फर्जी ख़बरों की क्लास लगाता हूँ। प्रवासियों को दोस्त हूँ। भारत मेरा सबकुछ हैं। Instagram पर @nyabihar तथा lov@gulfhindi.com पर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a comment