रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) को फ्यूचर एंटरप्राइजेज लि. (एफईएल) के ‘संभावित’ खरीदार के रूप में चुना गया है, जो कि वर्तमान में कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया (सीआईआरपी) में है। एफईएल एक फ्यूचर समूह की कंपनी है जो देशभर में बिग बाजार ब्रांड नाम से खुदरा कारोबार का संचालन करती है।

समाधान प्रक्रिया

एफईएल के समाधान पेशेवर ने तीन संभावित समाधान आवेदकों (पीआरए) की शुरुआती सूची को अंतिम रूप दे दिया है। इस सूची में, आरआरवीएल (रिलायंस रिटेल) के अलावा, स्टील कंपनी जिंदल (इंडिया), पॉलिएस्टर विस्कोस और कपड़े बनाने वाली कंपनी जीबीटीएल भी शामिल हैं। इन चयनित कंपनियों को अपनी समाधान योजना 24 अगस्त 2023 तक सौंपनी है।

समाधान के लिए नियमित विकास

राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने मार्च 2023 में एफईएल के लिए कॉरपोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया शुरू की थी। यह उस चरण के बाद हुआ था जब रिलायंस इंडस्ट्रीज ने एक बड़े सौदे को रद्द कर दिया था, जिसके तहत 19 कंपनियों को रिलायंस रिटेल को स्थानांतरित किया जाना था।

एफईएल खुदरा, थोक, लॉजिस्टिक और भंडारगृह क्षेत्रों में काम करने वाली समूह की उन 19 कंपनियों का हिस्सा है, जिन्हें अगस्त, 2020 में घोषित 24,713 करोड़ रुपये के सौदे के तहत रिलायंस रिटेल को स्थानांतरित किया जाना था। उसके बाद एफईएल ने अपने कई गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर पर ब्याज भुगतान से चूक गई थी।

आवेदनों का आदान-प्रदान

समाधान पेशेवर को विभिन्न स्रोतों से कुल 15,819.92 करोड़ रुपये के दावे मिले हैं। यहां तक कि एफईएल के कर्मचारियों से भी कुछ दावे मिले हैं।

बिहार से हूँ। बिहार होने पर गर्व हैं। फर्जी ख़बरों की क्लास लगाता हूँ। प्रवासियों को दोस्त हूँ। भारत मेरा सबकुछ हैं। Instagram पर @nyabihar तथा lov@gulfhindi.com पर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a comment

अपना कमेंट दीजिए.