आपने कभी सोचा हैं कि रेल के टनल में अगर आपका यात्रा रुक जाए तो आप कैसे बाहर आएँगे. दिल्ली-गाजियाबाद मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर के भूमिगत हिस्से में निर्माणाधीन समानांतर सुरंग में यात्रियों की सुरक्षा का ध्यान रखा जा रहा है । आपातकाल के दौरान यात्री सुरंग से सुरक्षित बाहर आ सकेंगे।

हर 250 मीटर पर हैं सुविधा.

आने-जाने के लिए समानांतर सुरंग रैपिड रेल कॉरिडोर के भूमिगत हिस्से में हर रूट पर ट्रेन के आने-जाने के लिए दो समानांतर सुरंग का निर्माण किया जा रहा है। इनमें हर 250 मीटर की दूरी पर एक-एक क्रॉस पैसेज का प्रावधान किया गया है। दोनों सुरंग के बीच एक ऐसा हिस्सा होगा जिससे आपातकाल में एक सुरंग से दूसरी सुरंग के बीच जाया जा सके। यदि एक सुरंग में ट्रेन का परिचालन रुक जाता है तो क्रॉस पैसेज से यात्रियों को दूसरी सुरंग से बाहर निकाला जा सकता है. गाजियाबाद में एक और मेरठ में छह सुरंग का निर्माण कार्य चल रहा है।

अंदर चल रहा हैं कुछ इस प्रकार का काम.

हाथ से चलाई जाने वाली मशीनों से खुदाई हो रही एनएटीएम तकनीक से निर्माण के लिए खुदाई की जाती है। सबसे पहले उस हिस्से को चिह्नित किया जाता है जहां खुदाई होती है। फिर हाथ से चलाई जाने वाली छोटी मशीन से खुदाई की जाती है। मिट्टी को स्थिर बनाने के लिए रॉक बोल्ट लगाए जाते हैं। इस दौरान मिट्टी के दबाव एवं सतह पर होने वाले उसके असर को उपकरणों के माध्यम से चेक किया जाता है।

 

 

 

बिहार से हूँ। बिहार होने पर गर्व हैं। फर्जी ख़बरों की क्लास लगाता हूँ। प्रवासियों को दोस्त हूँ। भारत मेरा सबकुछ हैं। Instagram पर @nyabihar तथा [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं।

Leave a comment