Air Pollution और हृदय स्वास्थ्य के बीच बहुत गहरा आंतरिक संबंध है। धुएं, केमिकल और रासायनिक पदार्थों से भरे वातावरण में जीने के कारण हम हेल्दी नहीं रह पाते बल्कि हमारे शरीर को बहुत नुकसान होता है और हमें अच्छी सांस से वंचित करता है। स्वास्थ्य और  Pollution के बीच वायु प्रदूषण को लेकर जब हम बात करते हैं तो देखते है कि हमारे खान – पान में बहुत कम ताकत बची है, बुरी तरह से पर्यावरण मे बदलाव हो रहे है, और बुरी गैसो के प्रभाव से संभवतः हमे पर्यावरण मे बहुत से खतरनाक बदलाव देखने को आगे भी मिलते रहेगें। वायु प्रदूषण में मौजूद जहरीले वायु से ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस बढ़ता है, जो हृदय की सेहत पर बुरा असर डालता है। गलत जीवनशैली, नियमित व्यायाम की कमी, स्ट्रेस, उच्च रक्तचाप से यह खतरा और भी अधिक बढ़ता है।

air pollution

 

Air Pollution में शामिल होने वाले जहरीले पदार्थ, जैसे कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस का प्रभाव हृदय के अंदर आक्सीजन स्थिर बढ़ा देता है जो नियमित ढंग से धमनियों के जरिए हमारे अंगों तक पहुंचता है। विशेष रूप से कोयले का धुआं भी हृदय के रोगों के जोखिम को बढ़ाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एक अहम रिपोर्ट में बताया है कि वायु प्रदूषण से दिल के रोग का खतरा 20% से ज्यादा बढ़ जाता है। अधिकांश Air Pollution के कारण दिल की बीमारियों का संबंध चार मुख्य कारणों से होता है।

विषाक्त पदार्थों से होने वाला प्रभाव
वायु प्रदूषण में मौजूद विषाक्त पदार्थों जैसे कि फाईन पार्टिकल मैटर (प्रदूषक थूँथ और केमिकल) के कारण हृदय स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। ये पार्टिकल्स खांसी और साँस के समस्याओं को बढ़ाते हैं जो दिल की सेहत पर बुरा असर डालते हैं।

सूखे धुएं का प्रभाव
Air Pollution के निर्माण का कारक ऑटोमोबाइल होते हैं। नॉन इलेक्ट्रिक गाड़ियां धुएं उत्पादन करती हैं। गाड़ियों का धुंआ दिल के लिए बहुत खतरनाक होता है, खासकर सूखे धुएं क्योंकि वो गले की बीमारी को बढ़ा देते हैं और इससे दिल के रोगों के खतरे को बढ़ाते हैं।

air pollution

 

नाइट्रोजन धुएं
नाइट्रोजन धुएं, जो ऑटोमोबाइलों, कारखानों और अन्य विषाक्त पदार्थों के उत्पादन से आते हैं, दिल के स्वास्थ्य पर बुरा असर डालते हैं। नाइट्रोजन धुंआ शरीर में एक विशेष प्रकार के केमिकल कमियाँ पैदा करते हैं जो दिल के संबंधित समस्याओं के साथ संबंधित हैं।

ओज़ोन
ओज़ोन एक वायुमंडलीय गैस भी दिल के स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर डालता है। इसका प्रभाव अधिक पुरूषों और महिलाओं में अधिक होता है जो कैसिनोन और अन्य विषाक्त पदार्थों से नियमित रूप से संपर्क करते हैं। ओजोन विषाक्त पदार्थों के साथ संबंधित होता है और दिल संबंधित समस्याओं के खतरे को बढ़ाता है।

वायु प्रदूषण के कारण दिल की कमजोरी में बढ़ोतरी होती है जो दिल के रोगों के जोखिम को बढ़ाती है। रोजमर्रा की जिंदगी में एक स्वस्थ वातावरण बनाये रखना हमें दिल के रोगों से बचाने में मदद करेगा। हमें दिनचर्या में स्वस्थ खान-पान के व्यवस्थित नियम, स्वस्थ व्यायाम , योगा और अधिक सेहतमंद दिनचर्या को अपनाना चाहिए।

Journalist from Noida. Covering Delhi, NCR and UP Updates.

Leave a comment

अपना कमेंट दीजिए.